Dear friends

🎊Happy friendship day to all my dear friend!🎊 दूसरों में रुचि लेकर आप 2 महीने में इतने ज्यादा दोस्त बना सकते हैं, जितने कि आप 2 साल में बना पाएंगे। अगर आप यह चाहे कि दूसरे आप में रुचि लें। परंतु हम सभी ऐसे लोगों को जानते हैं जो इसी बात की कोशिश करते हैं… Continue reading Dear friends

A Stubborn Girl

A Stubborn Girl(एक जिद्दी लड़की)---------यह ब्लॉग ZiddyNidhi का है। शायद आप इस ब्लॉग को जानते होगे और आपने उनकी लेखनी को भी पढ़ा होगा। वे एक अच्छी लेखिका हैं जो 2017 से लगाकर यहां लिख रही हैं।उनके ब्लॉग में कुछ तकनीकी गड़बड़ी के कारण आपसे संपर्क टूट गया है। यदि आप पुनः उनकी लेखनी पढ़ना/जुड़ना… Continue reading A Stubborn Girl

जात को लात या प्यार का भस्मीभूत?

यह एक सच्ची घटना पर आधारित प्रेम कहानी है। जो दर्शाती है कि प्यार के लिए एक प्रेमी कैसे अपने प्रेम का जीतांजली देते हैं और समाज, जात-पात कैसे इसके लिए बाधा बनते हैं? तो चलिए शुरुआत करते हैं। ___________ एक रामूभैया ब्रजकिशोर चाचा की बिटिया से छुप-छुपकर बहुते बतियाते थें। दोनों को एक दूसरे… Continue reading जात को लात या प्यार का भस्मीभूत?

जनसंख्या वृद्धि संवाद: अच्छा या बुरा?

विश्व की कुछ चुनौतियों में से जनसंख्या वृद्धि एक महत्वपूर्ण चुनौती है। जब हम संसाधनों की बात करते हैं तो, हमें इसकी सीमित मात्रा को लेकर नहीं, बल्कि अपनी वृद्धि को लेकर चिंतित होने चाहिए। आइए कुछ सवालों और जवाबों के अनुसार, ये जानने की कोशिश करते हैं कि "क्या जनसंख्या वृद्धि हमारे लिए जरूरी… Continue reading जनसंख्या वृद्धि संवाद: अच्छा या बुरा?

सुरक्षित करें अपनी गोपनीय डाटा

Edited: 29 June 2020 भारत सरकार द्वारा 59 चीनी ऐप को प्रतिबंध किया गया। ____________ Image credit: inshort अगर आपके फोन में भी निम्न में से कोई एपलिकेशन है तो उन्हें हटा लें। लाल टिक वाले भारत में ज्यादा लोकप्रिय है, इसलिए मैंने टीक कर दिया। वैसे ये सभी सुरक्षा के लिहाज से संदिग्ध हैं।… Continue reading सुरक्षित करें अपनी गोपनीय डाटा

Alone Heart..

I'm going throughआज मुझे सब कुछ बेईमानी लग रहायहाँ तक, अपना बदन भीदिखता ठीक हूँ, पर हूँ नहींचाँद पे फर्श पाल रखा थाआज जमीं नहीं संभल रहाआँखों में डबडबा आँसूआज बरा चमक रहाशोर बहुत है कानों मेंपर, पता नहीं क्या चल रहा?एकांत क्यूँ अच्छा लग रहा?पता नहीं, एकांत क्यूँ अच्छा लग रहा?

खामोशी का बाजार

"मुंह की बात सुने हर कोई, दिल के दर्द को जाने कौन? आवाजों के बाजारों में, खामोशी पहचाने कौन?" ____________ हर तरफ खिलें हैं चेहरे मायूसी पहचाने कौन? जितने खिलते, चेहरे होते। उतने गहरे दर्द हैं क्यों? कल मिलन की बात हुई थी, आज न जाने, मैं हूँ कौन? _____ Sushant Singh Rajput 💐🙏💐

आँसू

The Hindi Mail यह Madhusudan सर द्वारा लिखा गया है। उनके और बेहतरीन पोस्ट पढ़ने के लिए आप उनके पोस्ट https://madhureo.com पर जायें। Facebook पर इसे देखने या हमें follow करने के लिए इस निम्न लिंक पर जायें।👇 https://m.facebook.com/TheHindiMail/ पढ़ने के लिए आपका विशेष धन्यवाद!